Mustafa Jane Rehmat Pe Lakhon Salam Lyrics मुस्तफ़ा जान-ए-रहमत

Mustafa Jane Rehmat Pe Lakhon Salam Lyrics मुस्तफ़ा जान-ए-रहमत मुस्त़फ़ा, जान-ए-रह़मत पे लाखों सलाम शम्-ए-बज़्म-ए-हिदायत पे लाखों सलाम मेहर-ए-चर्ख़-ए-नुबुव्वत पे रोशन दुरूद गुल-ए-बाग़-ए-रिसालत पे लाखों सलाम शहर-ए-यार-ए-इरम, ताजदार-ए-ह़रम नौ-बहार-ए-शफ़ाअ़त पे लाखों सलाम शब-ए-असरा के दूल्हा पे दाइम दुरूद नौशा-ए-बज़्म-ए-जन्नत पे लाखों सलाम हम ग़रीबों के आक़ा पे बे-ह़द दुरूद हम फ़क़ीरों की सर्वत पे लाखों… Continue reading Mustafa Jane Rehmat Pe Lakhon Salam Lyrics मुस्तफ़ा जान-ए-रहमत