जय माँ कुष्मांडा मैया – Kushmanda Maa Aarti Lyrics

जय माँ कुष्मांडा मैया – Kushmanda Maa Aarti Lyrics चौथा जब नवरात्र हो, कुष्मांडा को ध्याते। जिसने रचा ब्रह्माण्ड यह, पूजन है करवाते॥ आध्शक्ति कहते जिन्हें, अष्टभुजी है रूप। इस शक्ति के तेज से कहीं छाव कही धुप॥ कुम्हड़े की बलि करती है तांत्रिक से स्वीकार। पेठे से भी रीज्ती सात्विक करे विचार॥ क्रोधित जब… Continue reading जय माँ कुष्मांडा मैया – Kushmanda Maa Aarti Lyrics