Durga Saptashti Chapter 12 – श्री दुर्गा सप्तशती बारहवाँ अध्याय

Durga Saptashti Chapter 12 – श्री दुर्गा सप्तशती बारहवाँ अध्याय श्री दुर्गा सप्तशती- बारहवाँ अध्याय देवी के चरित्रों के पाठ का माहात्म्य देवी बोली- हे देवताओं! जो पुरुष इन स्तोत्रों द्वारा एकाग्रचित्त होकर मेरी स्तुति करेगा उसके सम्पूर्ण कष्टों को नि:संदेह हर लूँगी। मधुकैटभ के नाश, महिषासुर के वध और शुम्भ तथा निशुम्भ के वध… Continue reading Durga Saptashti Chapter 12 – श्री दुर्गा सप्तशती बारहवाँ अध्याय