Durga Saptashti Chapter 11 – श्री दुर्गा सप्तशती ग्यारहवाँ अध्याय

Durga Saptashti Chapter 11 – श्री दुर्गा सप्तशती ग्यारहवाँ अध्याय श्री दुर्गा सप्तशती- ग्यारहवाँ अध्याय देवताओं का देवी की स्तुति करना तथा देवी का देवताओं को वरदान देना महर्षि मेधा कहते हैं- दैत्य के मारे जाने पर इन्द्रादि देवता अग्नि को आगे कर के कात्यायनी देवी की स्तुति करने लगे, उस समय अभीष्ट की प्राप्ति… Continue reading Durga Saptashti Chapter 11 – श्री दुर्गा सप्तशती ग्यारहवाँ अध्याय