Durga Saptashti Chapter 10 – श्री दुर्गा सप्तशती दसवाँ अध्याय

Durga Saptashti Chapter 10 – श्री दुर्गा सप्तशती दसवाँ अध्याय श्री दुर्गा सप्तशती- दसवाँ अध्याय शुम्भ वध महर्षि मेधा ने कहा- हे राजन्! अपने प्यारे भाई को मरा हुआ तथा सेना को नष्ट हुई देखकर क्रोध में भरकर दैत्यराज शुम्भ कहने लगा-दुष्ट दुर्गे! तू अहंकार से गर्व मत कर क्योंकि तू दूसरों के बल पर… Continue reading Durga Saptashti Chapter 10 – श्री दुर्गा सप्तशती दसवाँ अध्याय