चिंगारी कोई भड़के Chingari Koi Bhadke Lyrics In Hindi

चिंगारी कोई भड़के Chingari Koi Bhadke Lyrics In Hindi चिंगारी कोई भड़के, तो सावन उसे बुझाये सावन जो अगन लगाये, उसे कौन बुझाये, ओ… उसे कौन बुझाये पतझड़ जो बाग उजाड़े, वो बाग बहार खिलाये जो बाग बहार में उजड़े, उसे कौन खिलाये ओ… उसे कौन खिलाये हमसे मत पूछो कैसे, मंदिर टूटा सपनों का… Continue reading चिंगारी कोई भड़के Chingari Koi Bhadke Lyrics In Hindi