Dhoor Pendi Lyrics In Hindi – Kaka New Punjabi Song Lyrics

Dhoor Pendi Lyrics In Hindi – Kaka New Punjabi Song Lyrics

दूर पेंदी बीके उत्ते कोंण बैठुगी
अलहडा दी अखं जांदी शीशे चीरदी
रांझेयाँ वे कर किथों हिला कार दा
गूडी के मोहोब्बत तू चौण हीर दी

छोटी होवे चल जुगी कोई गल नि
पर गद्दी विच होवे AC चल्दा
हुस्ना दे जड़ विच पैसा बैठा ऐ
पैसा बुनियाद प्यार वाली गल दा

नोट कड्डो जेब चों गुलाबी रंग दे
हर गुस्ताखी होजू माफ़ सज्जना
राज राज करो भावें रंगरलियाँ
बोल्दा नि कोई वि खिलाफ सज्जना

ईने मिट्ठे मिट्ठे बोल पेश होणगे
ईने मिट्ठे मिट्ठे बोल पेश होणगे
फिक्की फिक्की लगुगी मिठास खीर दी
रांझेयाँ वे कर किथों हिला कार दा
गूडी के मोहोब्बत तू चौण हीर दी

कोई नार जे अहंकार हुस्ना दा करदी
ओहनू दस दी बाज़ार विच मूल विकदे
फेक यार वि शिकर उत्ते निकले बड़े
दस तां जुबाना उत्ते कोण टिकदे

पैदल जे कोई तेरे नाल चल पई
घुट के फड़ी तू हथ छड्डी ना कदे
ओहनू तर्ज बना ली आप गीत बन जाये
तर्ज नु गीत विचों कदी ना कदे

साफ़ नीत वालियां ना मिलण किते
सच्चे दिल वालियां ना मिलण किते
रांझेयाँ वे कर किथों हिला कार दा
गूडी के मोहोब्बत तू चौण हीर दी

दूर पेंदी बीके उत्ते कोंण बैठुगी
अलहडा दी अखं जांदी शीशे चीरदी
रांझेयाँ वे कर किथों हिला कार दा
गूडी के मोहोब्बत तू चौण हीर दी

हुस्ना दे पुतले ने दूरों तक ओये
नेड़े ना तू जाई मिलना नि कख ओये
लारे ते यकीन वादियाँ ते शक ओये
दिल दे स्टारिंग ते काबू रख ओये

बग्गी जेहि लूम्ब्डी मासूम बन गई
काके तेरी लूम्ब्डी मासूम बन गई
मेनू तां एह मामला खराब लगदे
कई वारि चीज़ उत्तों ठंडी लगदी
असल च गरम हुंडी तासीर दी

दूर पेंदी बीके उत्ते कोंण बैठुगी
अलहडा दी अखं जांदी शीशे चीरदी
रांझेयाँ वे कर किथों हिला कार दा
गूडी के मोहोब्बत तू चौण हीर दी

तैनू लोड की आन पिछे पिछे जांदी
महंगे जे ब्रांड केरा पाके देख ले
सोहनी तेरी, तेरा आपे हाल पुछुगी
महिवाल खेड चल आजमा के देख ले

केडा भेड़ चाल आजमा के देख ले
तू वि शोशे बाजियां च आके देख ले

इश्क मोहोब्बत भुलेखे मन्न दे
गर्मी जी कद्द्नी हुंडी शरीर दी
लंगगी जवानी किस्से किस कम दे
कीमत बड़ी आं नजर दे तीर दी

दूर पेंदी बीके उत्ते कोंण बैठुगी
अलहडा दी अखं जांदी शीशे चीरदी
रांझेयाँ वे कर किथों हिला कार दा
गूडी के मोहोब्बत तू चौण हीर दी

Leave a comment

Your email address will not be published.