Baharon Ne Mera Chaman Loot Kar / बहारों ने मेरा चमन लूटकर Lyrics in Hindi – Free Hindi Lyrics

बहारों ने मेरा चमन लूटकर
ख़िज़ाँ को ये इल्ज़ाम क्यों दे दिया
किसी ने चलो दुश्मनी की मगर
इसे दोस्ती नाम क्यों दे दिया

मैं समझा नहीं ऐ मेरे हमनशीं
सज़ा ये मिली है मुझे किसलिए
के साकी ने लब से मेरे छीनकर
किसी और को जाम क्यों दे दिया

मुझे क्या पता था कभी इश्क़ में
रक़ीबों को क़ासिद बनाते नहीं
खता हो गयी मुझ से क़ासिद मेरे
तेरे हाथ पैग़ाम क्यों दे दिया

खुदाया यहाँ तेरे इन्साफ़ के
बहोत मैने चर्चे सुने हैं मगर
सज़ा की जगह एक ख़ता-वार को
भला तूने इनाम क्यों दे दिया
href=”Dharmendra”>#Dharmendra href=”SharmilaTagore”>#SharmilaTagore href=”DevenVerma”>#DevenVerma href=”RaagPilu”>#RaagPilu

Bahaaron ne mera chaman lutakar
Khizaan ko ye iljaam kyon de diya
Kisi ne chalo dushmani ki magar
Ise dosti naam kyon de diya

Main samajha nahin ai mere hamanashin
Saja ye mili hai mujhe kisalie
Ke saaki ne lab se mere chhinakar
Kisi aur ko jaam kyon de diya

Mujhe kya pata tha kabhi ishq men
Raqibon ko qaasid banaate nahin
Khata ho gayi mujh se qaasid mere
Tere haath paigaam kyon de diya

Khudaaya yahaan tere insaaf ke
Bahot maine charche sune hain magar
Saza ki jagah ek khata-waar ko
Bhala tune inaam kyon de diya

Leave a comment

Your email address will not be published.