Aadmi Musafir Hai Lyrics आदमी मुसाफिर है

<h1>Aadmi Musafir Hai Lyrics in Hindi</h1>

आदमी मुसाफिर है, आता है, जाता है
आते जाते रस्तें में यादें छोड जाता है

झोंका हवा का, पानी का रेला
मेले में रह जाए जो अकेला
फिर वो अकेला ही रह जाता है

कब छोडता है ये रोग जी को
दिल भूल जाता है जब किसीको
वो भूलकर भी याद आता है

क्या साथ लाए, क्या तोड़ आए
रस्तें में हम क्या क्या छोड़ आए
मंज़िल पे जा के याद आता है

जब डोलती है जीवन की नैय्या
कोई तो बन जाता है खेवैय्या
कोई किनारे पे ही डूब जाता है

==========

Adami musaafir hai, ata hai, jaata hai
Ate jaate rasten men yaaden chhod jaata hai

Jhonka hawa ka, paani ka rela
Mele men rah jaae jo akela
Fir wo akela hi rah jaata hai

Kab chhodata hai ye rog ji ko
Dil bhul jaata hai jab kisiko
Wo bhulakar bhi yaad ata hai

Kya saath laae, kya tod ae
Rasten men ham kya kya chhod ae
Mnzil pe ja ke yaad ata hai

Jab dolati hai jiwan ki naiyya
Koi to ban jaata hai khewaiyya
Koi kinaare pe hi dub jaata hai

Leave a comment

Your email address will not be published.