कभी फ़ुरसत हो तो जगदम्बे भजन लिरिक्स Kabhi Fursat Ho To Bhajan Lyrics

कभी फ़ुरसत हो तो जगदम्बे भजन लिरिक्स Kabhi Fursat Ho To Bhajan Lyrics

कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे,
निर्धन के घर भी आ जाना,
जो रूखा सूखा दिया हमें,
कभी उस का भोग लगा जाना,
कभी फ़ुरसत हो तो जगदम्बे,
निर्धन के घर भी आ जाना।

ना छतर बना सका सोने का,
ना चुनरी घर मेरे तारों जड़ी,
ना पेडे बर्फी मेवा है माँ,
बस श्रद्धा हैं नैन बिछाए खड़ी,
इस श्रद्धा की रख लो लाज हे माँ,
इस अर्जी को ना ठुकरा जाना,
जो रुखा सूखा दिया हमें,
कभी उस का भोग लगा जाना।

जिस घर के दिए मे तेल नहीं,
वहां जोत जलाऊँ मैं कैसे,
मेरा खुद ही बिछौना धरती पर ,
तेरी चौकी सजाऊँ मैं कैसे,
जहाँ मै बैठा वही बैठ के माँ,
बच्चों का दिल बहला जाना,
जो रुखा सूखा दिया हमें,
कभी उस का भोग लगा जाना।

तू भाग्य बनाने वाली हैं,
माँ मै तक़दीर का मारा हूँ,
हे दाती संभाल भिखारी को,
आख़िर तेरी आँख का तारा हूँ,
मै दोषी तू निर्दोष है माँ,
मेरे दोषों को तूँ भूला जाना,
जो रूखा सूखा दिया हमें,
कभी उस का भोग लगा जाना।

कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे,
निर्धन के घर भी आ जाना,
जो रूखा सूखा दिया हमें,
कभी उस का भोग लगा जाना,
कभी फ़ुरसत हो तो जगदम्बे,
निर्धन के घर भी आ जाना।

Kabhi Fursat Ho To Bhajan Lyrics

Kabhi Phursat Ho To Jagadambe,
Nirdhan Ke Ghar Bhi Aa Jaana,
Jo Rukha Sukha Diya Hamen,
Kabhi Us Ka Bhog Laga Jaana,
Kabhi Furasat Ho To Jagadambe,
Nirdhan Ke Ghar Bhi Aa Jaana.

Na Chhatar Bana Saka Sone Ka,
Na Chunari Ghar Mere Taaron Jadi,
Na Pede Barphi Meva Hai Maan,
Bas Shraddha Hain Nain Bichhae Khadi,
Is Shraddha Ki Rakh Lo Laaj He Maan,
Is Arji Ko Na Thukara Jaana,
Jo Rukha Sukha Diya Hamen,
Kabhi Us Ka Bhog Laga Jaana.

Jis Ghar Ke Die Me Tel Nahin,
Vahaan Jot Jalaun Main Kaise,
Mera Khud Hi Bichhauna Dharati Par ,
Teri Chauki Sajaun Main Kaise,
Jahaan Mai Baitha Vahi Baith Ke Maan,
Bachchon Ka Dil Bahala Jaana,
Jo Rukha Sukha Diya Hamen,
Kabhi Us Ka Bhog Laga Jaana.

Tu Bhaagy Banaane Vaali Hain,
Maan Mai Taqadir Ka Maara Hun,
He Daati Sambhaal Bhikhaari Ko,
Aakhir Teri Aankh Ka Taara Hun,
Mai Doshi Tu Nirdosh Hai Maan,
Mere Doshon Ko Tun Bhula Jaana,
Jo Rukha Sukha Diya Hamen,
Kabhi Us Ka Bhog Laga Jaana.

Kabhi Phursat Ho To Jagadambe,
Nirdhan Ke Ghar Bhi Aa Jaana,
Jo Rukha Sukha Diya Hamen,
Kabhi Us Ka Bhog Laga Jaana,
Kabhi Furasat Ho To Jagadambe,
Nirdhan Ke Ghar Bhi Aa Jaana.

Leave a comment

Your email address will not be published.